Gulzar Shayari on Eyes in Hindi | गुलज़ार शायरी | Hindi Shayari

Gulzar Shayari on Eyes in Hindi 
गुलज़ार शायरी ऑन आईज इन हिंदी एक हिंदी शायरी कलेक्शन में से ली गयी बहुत ही बेहतरीन गुलज़ार शायरी है , वैसे तो गुलज़ार साहब को कौन नहीं जानता , शायरी और एहसास का दूसरा नाम ही तो गुलज़ार साहब है , आज की पोस्ट में आज आपके लिए लेकर आये है हिंदी शायरी गुलज़ार की जैसे Gulzar Shayari on Eyes in Hindi, Gulzar Shayari on Eyes , Gulzar Shayari on Eyes in Hindi Images , Gulzar Shayari on Eyes in Hindi Pictures , Gulzar Shayari on Eyes images , Gulzar Shayari in Hindi on Aankhen , Ankhon Par Gulzar ki Shayari , Gulzar Sahib ki Aankho Par Shayari , Best Gulzar Shayari on Eyes in Hindi etc. उम्मीद है आपको गुलज़ार हिंदी शायरी पसंद आएगी , अगर पसंद आये तो , शेयर जरूर करना Thanks 

Gulzar Shayari on Eyes in Hindi Images

आप की आँखों में कुछ 
महके हुए से राज़ है 
आपसे मी खूबसूरत 
आपके अंदाज़ हैं… 

Aap kee aankhon mein kuchh 
Mahake hue se raaz hai 
Aapase mee khoobasoorat 
Aapake andaaz hain 
Gulzar Shayari on Eyes in Hindi, Gulzar Shayari on Eyes , Gulzar Shayari on Eyes in Hindi Images , Gulzar Shayari on Eyes in Hindi Pictures , Gulzar Shayari on Eyes images , Gulzar Shayari in Hindi on Aankhen , Ankhon Par Gulzar ki Shayari , Gulzar Sahib ki Aankho Par Shayari , Best Gulzar Shayari on Eyes in Hindi , गुलज़ार शायरी ऑन आईज इन हिंदी

Gulzar Shayari on Eyes 

कभी तो चौक के देखे वो हमारी तरफ़, 
किसी की आँखों में हमको भी वो इंतजार दिखे

Kabhee to chauk ke dekhe vo 
hamaaree taraf, 
Kisee kee aankhon mein 
hamako bhee vo intajaar dikhe 

Gulzar Shayari on Eyes images 

शाम से आँख में नमी सी है, 
आज फिर आप की कमी सी है. 
दफ़्न कर दो हमें के साँस मिले, 
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है 

Shaam se aankh mein namee see hai, 
Aaj phir aap kee kamee see hai. 
Dafn kar do hamen ke saans mile, 
Nabz kuchh der se thamee see hai 

Gulzar Shayari in Hindi on Aankhen 

होठों ने सब बातें छुपा कर रखीं, 
आँखों को ये हुनर कभी आया ही नहीं 

Hothon ne sab baaten 
chhupa kar rakheen, 
Aankhon ko ye hunar 
kabhee aaya hee nahin 

Gulzar Shayari on Eyes in Hindi Pictures

छोटा सा साया था, 
आँखों में आया था 
हमने दो बूंदों से मन भर लिया 

Chhota sa saaya tha, 
Aankhon mein aaya tha 
Hamane do boondon se mann bhar liya 

Ankhon Par Gulzar ki Shayari 

एक से एक जुदा था राही, 
पास थे सारे संग ना कोई, 
सब रंगों के देखें चेहरे , 
उन आँखों का रंग ना कोई, 
जिन बांहों में नींद आ जायें , 
ढूँढ रहे थे वो ही बांहें 

Ek se ek juda tha raahee,
Paas the saare sang na koee, 
Sab rangon ke dekhen chehare , 
Un aankhon ka rang na koee, 
Jin baanhon mein neend aa jaayen , Dhoondh rahe the vo hee baanhen 

Gulzar Sahib ki Aankho Par Shayari 

आँखें थी जो कह गयी सब कुछ.. 
लफ्ज़ होते तो मुकर गए होते 

Aankhen thee jo kah gayee sab kuchh.. Lafz hote to mukar gae hote

You Might Also Like

2 comments